ऑर्डरों के निष्पादन की नीति

forex - दलाल के सहारे से एक ट्रेडिंग खाता खोलते समय, व्यापारी को सबसे पहले व्यापारिक परिचालन के नियमों से परिचित होना चाहिए

यह दस्तावेज लेनदेन करने के नियमों को परिभाषित करता है, और ग्राहक और कंपनी के बीच उत्पन्न विवादों को हल करने के लिए कानूनी आधार भी स्थापित करता है।

अनुभाव से पता चला है कि दलाल की वेबसाइट पर पंजीकरण करते समय ग्राहकों की बडी-सी संख्या परिचालन के नियमों से परिचित न होकर ग्राहक समझौते पर ध्यान दिये बिना इन को सार्वजनिक रूप से स्वीकार करती है।

याद रखना है कि ये दस्तावेज लेन-देन की सामान्य परिस्थितियों को परिभाषित करते हैं, कभी-कभी एक अनुभवी व्यापारी के लिये भी इस का अनुमान करना मुश्किल होता है कि बाज़ार की किसी स्थिति में उसका ऑर्डर कैसे निष्पादित होगा।

एक व्यापारी का सामना होने वाले “नुकसान” का वर्णन करने की आवश्यकता समझकर कंपनी ने ऑर्डरों के निष्पादन की नीति को विकसित की, जिसका उद्देश्य ग्राहकों को ForexChief के ट्रेडिंग खातों में लेनदेन करने से संबंधित कठिन पहलुओं के बारे में चेतावनी देना है।

स्टॉप-ऑर्डर का गिरावट (खरीद स्टॉप, सेल स्टॉप, स्टॉप लॉस)

नवागंतुक बहुत अक्सर पूछते हैं - मैं ने एक कीमत पर अपना स्टॉप-ऑर्डर रखा था, और यह दूसरी कीमत पर निष्पादित किया गया था, यह कयों हुआ ? इस प्रश्न का उत्तर स्टॉप ऑर्डर की प्रकृति से जुडा है। पहले-पहल, स्टॉप ऑर्डर यह एक ऐसी शर्त है जिसको निष्पादित करते समय बाज़ार ऑर्डर भेजा जाता है। वास्तव में, इसका मतलब यह है - “मैं किफायती कीमत पर (यानी” बाजार की “) खरीदना / बेचना चाहता हूं, अगर ऐसी-वैसी कीमत उभरेगी।" दूसरे, अंकित मूल्य का अर्थ है लेनदेन का निष्कर्ष केवल दोनों पक्शों - विक्रेता और खरीदार की सहमति से संभव होता है। इसका मतलब यह है कि तब ग्राहक द्वारा निर्धारित कीमत पर स्टॉप ऑर्डर को निष्पादित करना असंभव है, जब बाजार में ऐसी कोई कीमत नहीं है (यानी कोई भी ऐसी कीमत पर खरीदने या बेचने के लिए तैयार नहीं है)। इसी तरह, एक गेप (”कीमत का अंतर”) की स्थिति में, एक स्टॉप- ऑर्डर को केवल “गेप की कीमत” पर ही निष्पादित किया जा सकता है, अर्थात किफायती कीमत पर ही। इसलिए, किसी ट्रेडिंग खाते पर स्टॉप-ऑर्डर लगाते समय, व्यापारी को अपने स्टॉप ऑर्डर को निष्पादित करने के दौरान नकारात्मक गिरावट होने की संभावना से अवगत होना चाहिए।

लिमिट ऑर्डर की सकारात्मक गिरावट (खरीद लिमिट, सेल लिमिट , लाभ प्राप्त करना)

लिमिट ऑर्डर के संबंध में स्थिति उलटी है। लिमिट ऑर्डर ग्राहक द्वारा निर्धारित कीमत पर या सर्वोत्तम किफायती कीमत पर निष्पादित किया जा सकता है। इसका मतलब यह है कि यदि लिमिट ऑर्डर गेप में पड़े तो दलाल “गेप की कीमत” (यानी पहले किफायती कीमत पर) ऑर्डर को निष्पादित करेगा, जो कि व्यापारी के लिये “सकारात्मक”गिरावट के रूप में एक अतिरिक्त आय लाएगा ।


आर्थिक समाचार के प्रकाशन के समय ऑर्डरों को निष्पादित करने की गति

औसतन, ग्राहक ऑर्डर के निष्पादन की गति, ऑर्डर ट्रेडिंग सर्वर पर पहुंचने के क्षण से ग्राहक को पुष्टि भेजने के क्षण तक , 100 मिलीसेकेंड हैं। लेकिन, लेन-देन की ओवर-द-काउंटर प्रकृति के कारण, बैंकों को चल निधि बेचने की एक तथाकथित अंतिम शर्त लास्ट लुक जो है। वह बैंकों को “ बाजार की स्थिति स्पष्ट हो जाने तक ऑर्डर को निष्पादन से रोककर इसे प्रसंस्करण में रखने का अधिकार” देती है। इसका मतलब यह है कि एक व्यापारी जो खबर के प्रकाशन के समय एक स्थिति खोलने के लिए एक ऑर्डर भेजता है, वह उस ऑर्डर की गति कम होने का सामना कर सकता है। (गति 3 सेकंड से कम हो सकती है)। इसका मतलब यह नहीं है कि ये सभी ऑर्डर देरी से निष्पादित होंगे। लेकिन ऐसा हो सकता है। और कंपनी व्यापारियों को अपनी व्यापार प्रणाली में इस जोखिम को याद में रखने के लिए प्रोत्साहित करती है।


स्प्रैड के प्रसार की वजह से स्थिति की अनिवार्य समाप्ति

इस तथ्य के बावजूद कि व्यापारी के ट्रेडिंग खाते में “लॉक” स्थिति हो सकती है, यानी साधन की शॉर्ट स्थिति का आकार लंबी स्थिति के आकार से मेल खाती है, खाते पर फिर भी स्टॉप आउट हो सकता है (निधि की कमी की वजह से स्थिति की अनिवार्य समाप्ति) आम तौर पर यह स्थिति स्प्रेड के विस्तार का एक परिणाम है, जो आर्थिक समाचार के प्रकाशन के समय औसत स्प्रेड से अधिक होता है। इसका मतलब यह है कि फ्लोटिंग स्प्रेड वाले खातों पर व्यापारी को स्प्रेड कम होने की अवस्था में व्यापार करने की क्षमता होती है, लेकिन बुरी बात यह है कि स्प्रेड का अप्रत्याशित विस्तार हो सकता है, यह कैसे होगा पहले से ही कहना असंभव है।


व्यापार क्रेडिटों का उपयोग

व्यापार क्रेडिट एक अतिरिक्त लेवेरज है, जो व्यापार की स्थिति में वृद्धि करने का मौका देता है और परिणामस्वरूप, संभावित लाभ पाने का भी मौका देता है। लेकिन हमें यह याद रखना चाहिए कि अतिरिक्त धन के माध्यम से स्थिति के आकार में वृद्धि के साथ, कोटेशन में असफल बदलावों के नतीजे में व्यापारी के लिये संभावित वित्तीय नुकसानों की मात्रा भी बढ़ जाती है। यदि खाते में सक्रिय व्यापार क्रेडिट हैं, तो स्थितियों का अनिवार्य समापन दो मामलों में हो सकता है: यदि मार्जिन स्तर 30 % तक पहुंचता है, या खाते पर निधियों की राशि सक्रिय क्रेडिटों की राशि से कम हो जाती है। व्यापारी को व्यापार क्रेडिट के उपयोग से होने वाली जोखिमों से पूरी तरह अवगत होना चाहिए।